बिल गेट्स बोले- भारत सिर्फ अपने लिए ही नही,पूरी दुनिया के लिए CORONA वैक्सीन तैयार कर सकता है

0
194
bill gates

विश्व के दूसरे सबसे अमीर और माइक्रोसॉफ्ट के को-फाउंडर बिल गेट्स का मानना है कि इंडिया फॉर्मास्युटिकल इंडस्ट्री में ऐसी क्षमता है कि वह कोरोना वैक्सीन तैयार कर सकता है। उन्होंने कहा कि भारतीय दवा कंपनियां ना सिर्फ अपने देश के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए कोरोना वैक्सीन तैयार कर सकती हैं। गेट्स ने कहा कि भारतीय फॉर्मा कंपनियों ने कई महत्वपूर्ण काम किए हैं। उन्होंने कहा कि यहां की कंपनियां कोरोना वैक्सीन तैयार करने में काफी मदद कर रही हैं।

ये भी पढ़ें:- WHO में बढ़ेगा भारत का कद, स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन बनेंगे कार्यकारी बोर्ड के अध्यक्ष, 22 मई को संभालेंगे पद

जहां एक तरफ दुनिया भर में कोरोनावायरस की वैक्सीन को लेकर जद्दोजहद जारी है तो वहीं दूसरी और बिल गेट्स का कहना है कि भारत का फार्मास्यूटिकल उद्योग ना तो केवल अपने देश के लिए बल्कि पूरे दुनिया के लिए कोरोनावायरस की वैक्सीन का उत्पादन करने में सक्षम है। उन्होंने भारत की तारीफ करते हुए कहा है कि भारत में कोरोनावायरस की वैक्सीन को बनाने में मदद करने के लिए भारतीय फार्मा कंपनी महत्वपूर्ण काम कर रही है। माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के संस्थापक बिल गेट्स ने ‘COVID-19: India’s War Against The Virus’ में कहां है कि भारत को ज्यादा अधिक जनसंख्या घनत्व वाले इलाकों के कारण स्वास्थ्य संकट के कारण एक बड़ी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है।

ये भी पढ़ें:- भारत में Covid-19 के नये मामले बढ़े लेकिन साथ ही रिकवरी रेट में उछाल देखने के लिए रहें तैयार

बिल गेट्स ने कहा कि भारतीय दवा उद्योग आम दिनों में भी दुनिया के किसी भी देश से ज्यादा वैक्सीन विकसित करती है। उन्हें बनाती है औऱ दुनियाभर में सप्लाई करती है। सीरम इंस्टीट्यूट वहां की सबसे बड़ी दवा कंपनी हैलेकिन वही बिल गेट्स ने भारत की फार्मा उद्योग की ताकत पर बोलते हुए कहा कि भारत में बहुत अधिक क्षमता है। सीरम इंस्टीट्यूट के अलावा बायो ई, भारत बायोटेक जैसी कई दवा कंपनियां हैं जो कोरोना वायरस की वैक्सीन के लिए काम कर रही हैं। सिर्फ कोरोना वायरस ही नहीं ये दवा कंपनियां हर तरह की बीमारियों के इलाज खोजने का काम करती रहती हैं।
बिल गेट्स ने बताया कि भारत कोलिशन फॉर एपिडेमिक प्रीपेअर्डनेस इनोवेंशस (CEPI) नाम के समूह में शामिल हुआ है। ताकि दुनियाभर की दवा कंपनियों के साथ मिलकर कोरोना वायरस की वैक्सीन पर रिसर्च, डेवलपमेंट, उत्पादन और सप्लाई कर सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here