केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का लंबी बीमारी के बाद निधन

0
134
ram vilas paswan

केंद्रीय मंत्री एवं लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान का निधन हो गया. 74 साल की उम्र में उन्होंने अंतिम सांस ली. रामविलास पासवान कई दिनों से बीमार चल रहे थे. केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान का दिल्ली के एक अस्पताल में इलाज चल रहा था. अभी कुछ दिनों पहले ही उनके दिल का एक ऑपरेशन भी हुआ था. लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने ट्वीट कर इस बात की जानकारी दी. चिराग पासवान ने अपने ट्वीट में इमोशनल पोस्ट लिखा, पापा, अब आप इस दुनिया में नहीं हैं. लेकिन, मुझे पता है आप जहां भी हैं हमेशा मेरे साथ हैं.

लोक जनशक्ति पार्टी के 74 वर्षीय संरक्षक रामविलास पासवान का कुछ दिन पहले एक अस्पताल में हृदय का ऑपरेशन हुआ था. वह पांच दशक से अधिक समय से सक्रिय राजनीति में थे और देश के जाने-माने दलित नेताओं में से एक थे.
रामविलास पासवान लंबे समय से बीमार चल रहे थे. उन्होंने राजनीति में एक लंबा समय बिताया है. रामविलास पासवान वीपी सिंह, एचडी देवेगौड़ा, इंद्रकुमार गुजराल, अटल बिहारी वाजपेयी, मनमोहन सिंह और नरेंद्र मोदी इन सभी प्रधानमंत्रियों के ‘कैबिनेट’ में अपनी जगह बनाने वाले शायद एकमात्र व्यक्ति थे. अपने ट्वीट में चिराग पासवान ने अपने पिता की एक तस्वीर भी शेयर की है जिसमें चिराग रामविलास की गोद में नजर आ रहे हैं. आपको बता दें कि रामविलास पासवान का जन्म 5 जुलाई 1946 को बिहार के खगड़िया में हुआ था. वही उनकी मृत्यु 08 अक्टूबर 2020 को दिल्ली के एक अस्पताल में हुई.

रामविलास पासवान को भारतीय राजनीति का ऐसा नेता माना जाता है जो बहुत जल्द ही हवा का रुख पहचान लेते थे. भारत की राजनीति में ‘मौसम वैज्ञानिक’ के नाम से भी पहचाने जाने वाले रामविलास पासवान का राजनीतिक सफर पांच दशक से भी पुराना है. पासवान उस वक्त बिहार विधानसभा के सदस्य बन गए थे, जब लालू प्रसाद यादव और नीतीश कुमार अपने छात्र जीवन में ही थे. इस सदी या कहें कि बीते दो दशकों में वे केंद्र की हर सरकार में मंत्री रहे. पांच दशकों में रामविलास पासवान 8 बार लोकसभा के सदस्य रहे. राजद प्रमुख एवं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद ने ट्वीट कर रामविलास पासवान के निधन पर गहरी संवेदना प्रकट की है.

ये भी पढ़ें:- दलित नेता की हत्या के मामले में तेजस्वी, तेजप्रताप समेत 6 के खिलाफ मामला दर्ज, जेडीयू ने की सीबीआई जांच की मांग

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here