मुंबई में अक्टूबर में हुए Blackout में चीन का हाथ, अमेरिकी सांसद ने Joe Biden से कहा- भारत का साथ दो

0
70
mumbai blackout

मुंबई में हुए इस ब्‍लैक आउट को लेकर एक नया खुलासा हुआ है. न्‍यूयॉर्क टाइम्‍स ने एक शोध के हवाले से कहा है कि मुंबई में घटी इस घटना के पीछे चीन का हाथ था. न्यूयॉर्क टाइम्स में छपी रिपोर्ट में एस स्टडी का हवाला देते हुए दावा किया गया है कि चीनी हैकर्स की फौज ने अक्टूबर में मात्र पांच दिनों के अंदर भारत के पॉवर ग्रिड, आईटी कंपनियों और बैंकिंग सेक्टर्स पर 40,500 बार साइबर अटैक किया था. वो अपने हैकर्स की मदद से भारत में ब्लैकआउट कराना चाहता था. इस शोध में ये बात भी सामने निकलकर आई है कि अक्टूबर में पांच दिनों के अंदर इन चाइनीज हैकर्स ने 40 हजार बार से अधिक साइबर अटैक किए. ये साइबर अटैक भारत के पावर ग्रिड के अलावा आईटी कंपनियों और बैंकिंग सेक्टर्स पर किए गए. अमेरिका भी लगातार चीन की हरकतों पर नजर रख रहा है. अमेरिकी सांसद ने जो बाइडेन (Joe Biden) प्रशासन से चीन की हरकतों के खिलाफ आवाज उठाने और भारत के साथ खड़े होने की मांग की है. अमेरिका पहले भी चीन की दादागीरी के खिलाफ आवाज उठाता रहा है.

ये भी पढ़ें:- PM Modi ने Corona Vaccine टीका लगाने के दौरान नर्स से बोले- मोटी सुई लगाना, मोटी चमड़ी के होते हैं नेता

चीन के इस साइबर अटैक का अर्थ भारत को ये संदेश देना भी था कि वो अपने भारत के अलग-अलग पावर ग्रिड पर मैलवेयर अटैक कर उन्हें बंद कर सकता है. वरिष्ठ अमेरिकी सांसद फ्रेंक पैलोन ने जो बाइडेन (Joe Biden) प्रशासन से कहा है, भारत की पॉवर ग्रिड पर चीन के साइबर हमले (Cyberattack) के विरोध में अमेरिका (America) को भारत के साथ खड़ा होना चाहिए. अखबार में छपी खबर में जिस शोध का हवाला दिया गया है उसमें कहा गया है कि जिस वक्‍त ये घटना घटी थी उस वक्‍त भारत में बिजली की सप्लाई को नियंत्रित करने वाली प्रणालियों में चीनी मैलवेयर घुस चुके थे. इनके निशाने पर थर्मल पावर प्लांट और हाई वोल्टेज ट्रांसमिशन सबस्टेशन थे. चीन की साजिश के खुलासे के बाद, महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा, हमने तो पहले ही किसी बड़ी साजिश का शक जाहिर किया था. प्रारंभिक जांच रिपोर्ट के मुताबिक बड़े पैमाने पर ब्लैक आउट साइबर अटैक का प्रयास था. कांग्रेसी फ्रेंक पैलोन ने एक ट्वीट में लिखा, ‘अमेरिका को हमारे रणनीतिक मित्र (भारत) के साथ खड़ा होना चाहिए और भारत में पॉवर ग्रिड पर चीन के खतरनाक साइबर हमले की निंदा करनी चाहिए.’

ये भी पढ़ें:- हिसार में खाप पंचायत का कृषि कानून और तेल की कीमत के विरोध में फैसला, 1 मार्च से 100 रुपये लीटर बिकेगा दूध

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here