Coronavirus का असर : IRCTC का आदेश, लॉकडाउन में खुद कैंसल न कराएं ट्रेन टिकट, वरना कट सकता है पैसा

0
36
Coronavirus, irctc news

Coronavirus के बढ़ते प्रभाव और संक्रमण को रोकने के लिए सरकार ने पूरे देश में 21 दिनों के लिए लॉकडाउन का ऐलान किया है। लॉकडाउन की घोषणा के बाद रेलवे ने भी 14 अप्रैल तक सभी यात्री ट्रेनों के संचालन को रोक दिया है।
ऐसे में वैसे सभी यात्री जिन्होंने पहले से ऑनलाइन टिकट बुक करा रखी है उन्हें अब टिकट रिफंड की चिंता सताने लगी है। वहीं, भारतीय रेलवे उन सभी यात्रियों के लिए राहत की खबर लेकर आई है। भारत में 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा के बाद आईआरसीटीसी ने रेल यात्रियों के लिए बड़ी सुविधा का ऐलान किया है। IRCTC बताया है कि, यात्रियों को रिफंड के लिए टिकट काउंटर पर नहीं जाना होगा। ई-टिकट अपने आप रद्द हो जाएंगी और सारा रिफंड अपने आप उस अकाउंट में पहुंच जाएगा, जिससे टिकट की बुकिंग की गई थी।

Coronavirus, irctc newsयात्री खुद टिकट न करें कैंसल

रेलवे ने रेल यात्रियों से अपील की है कि उन ट्रेनों के लिए ऑनलाइन बुक किए गए रेल टिकट को कैंसल न करें जिन्हें लॉकडाउन के दौरान रद्द कर दिया गया है। आईआरसीटीसी ने रेल यात्रियों को इस बात का भरोसा दिया है कि वे टिकट ऑटोमैटिक कैंसल हो जाएंगी और यात्रियों का पूरा पैसा उन्हें मिल जाएगा। रेलवे ने पहले ही काउंटर टिकट रद करने के लिए 21 जून तक का समय दिया था।

कट सकता है आपका पैसा

आईआरसीटीसी ने कहा कि रेलवे की तरफ से यात्री ट्रेन को बंद किये जाने के बाद ई-टिकट कैंसल करने को लेकर लोगों के बीच कई तरह की शंका थी। ऐसे में IRCTC की ओर से जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, यात्री की ओर से टिकट रद्द करने की आवश्यकता नहीं है. यदि यात्री टिकट को कैंसिल करता है तो, संभावना है उसे रिफंड कम मिले। ऐसे में यात्रियों को सलाह दी जाती है कि वह उन ट्रेनों के टिकट को कैंसिल न करें, जिन्हें भारतीय रेलवे ने खुद रद्द किया है। आईआरसीटीसी के मुताबिक, ई-टिकट की बुकिंग का पूरा रिफंड ऑटोमेटिक ही यात्रियों के खातों में भेज दिया जायेगा। रेलगाड़ी रद्द होने के मामले में रेलवे द्वारा कोई शुल्क नहीं काटा जाता है।

Coronavirus, irctc news

रेलवे ने काउंटर से लिए गए रेल टिकटों को कैंसल कराने के लिए पहले ही 21 जून तक का समय दिया है। हालांकि अब इन टिकटों पर भी पूरा रिफंड मिलेगा। बता दें कि ट्रेन के कैंसल होने पर यात्रियों को टिकट का पूरा रिफंड मिलता है। जबकि यात्रा के दिन से पहले अगर यात्री टिकट कैंसल करता है तो उसका चार्ज कटता है। देश में के Coronavirus बढ़ते मामलों को देखते हुए रेलवे ने पहले 31 मार्च तक यात्री ट्रेनों के संचालन पर रोक लगाई थी, लेकिन पीएम मोदी के 21 दिनों के लॉकडाउन के ऐलान के बाद सभी पैसेंजर्स ट्रेनों को 14 अप्रैल तक के लिए रद्द कर दिया गया है। ऐसे में टिकट का रिफंड लेने के लिए बड़ी संख्‍या में लोग रेलवे स्‍टेशन पहुंच रहे हैं। इसे लेकर रेलवे ने पैसेंजर रिजर्वेशन सिस्‍टम (पीआरएस) काउंटर से जारी टिकट पर रिफंड के नियमों में ढील दी है। इसका मकसद स्टेशन पर भीड़ कम करना है।रिफंड के ये नियम 21 मार्च से 15 अप्रैल 2020 की यात्रा अवधि पर लागू होंगे।

Coronavirus, irctc news

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here