कृषि बिल के खिलाफ सड़कों पर हरियाणा के किसान, अध्यादेश के खिलाफ 25 को हरियाणा बंद उग्र आंदोलन की दी चेतावनी

0
150
farmers bill

हरियाणा के किसानों ने कृषि बिल के खिलाफ अपना विरोध प्रदर्शन तेज कर दिया है. कई किसान संगठनों ने आज रविवार को प्रदर्शन बुलाया है. इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने झंडे और बैनर भी दिखाए. किसान ट्रैक्टर लेकर सड़कों पर उतरे और बिल के विरोध में नारेबाजी की. ‘सड़क रोको’ आंदोलन के तहत किसानों ने हाईवे ब्लॉक करने का ऐलान किया था. इस घोषणा के तहत आज सैकड़ों की संख्या में किसान अम्बाला में सड़कों पर उतर आए. केंद्र सरकार के कृषि आधारित तीन अध्यादेशों के खिलाफ आज हरियाणा में जगह-जगह किसानों का जनसैलाब सड़कों पर उतर आया.
केंद्र के अध्यादेश के खिलाफ नारेबाजी करते हुए किसानों ने सरकार को चेतावनी दी कि अगर अध्यादेश वापस नहीं लिया गया, तो आंदोलन और उग्र होगा. फतेहाबाद में आज केंद्र सरकार के कृषि अध्यादेश के खिलाफ हजारों की संख्या में किसान सड़कों पर उतर आए. जहां तक नजर जा रही थी, जनसैलाब दिख रहा था.

ये भी पढ़ें:- मोदी सरकार ने भारी हंगामे के बीच राज्यसभा में कृषि बिल पास कराया

किसानों ने 25 सितंबर को हरियाणा बंद रखने का भी ऐलान किया. साथ ही 27 सितंबर को दिल्ली में महत्वपूर्ण बैठक करने की भी घोषणा की गई. इस दिन किसान अध्यादेश के खिलाफ अहम फैसला लेंगे. हरियाणा में अम्बाला से सटे सादोपुर बॉर्डर पर आज किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए भारी संख्या में पुलिसबल की तैनाती की गई है. इससे पहले भारतीय किसान यूनियन द्वारा आज शाहाबाद मारकंडा के दाऊ माजरा गांव के पास दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक रोड जाम किया गया. बड़ी संख्या में जुटे किसानों ने सड़क को जाम कर प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ नारेबाजी की. हालांकि इस दौरान पुलिसबल भी तैनात रहा और किसी भी तरह की हिंसक घटना का समाचार नहीं है. केंद्र सरकार के तीन कृषि अध्यादेशों के खिलाफ सिरसा में भी किसानों ने नाराजगी जाहिर की. मय्यड़ में भी कृषि विधेयकों के खिलाफ किसानों ने जबर्दस्त प्रदर्शन किया. महज 15 मिनट के लिए रोड जाम करने से कुछ ही देर में सड़क के दोनों तरफ गाड़ियों की लंबी कतार लग गई.

ये भी पढ़ें:- छत्तीसगढ़ CM ने चेताया – अभी तो पंजाब-हरियाणा के किसान कर रहे आंदोलन, जल्द सड़कों पर उतरेंगे देशभर के कृषक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here