मुफ्ती तय करेंगे फिर मुसलमान टीका लगवाएं या नहीं, Corona Vaccine में सूअर की चर्बी का के इस्तेमाल का शक

0
97
corona vaccine

देश के लोगों को अगले महीने से कोरोना वैक्सीन लगनी शुरू होने से पहले ही मुस्लिम समुदाय में कोरोना वैक्सीन के हलाल (Halal) या हराम (Haram) होने के सवाल पर बहस तेज हो गई है. कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine)को लेकर फतवा तक जारी कर दिया गया है. मुस्लिम मौलाना की मंजूरी के बाद ही मुसलमान इस दवा को लगवाने के लिए आगे आएं. दरअसल मुस्लिम मौलानाओ को लगता है की कोरोना वैक्सीन को बनाने में सूअर की चर्बी का इस्तेमाल किया जा रहा है. मुंबई की रजा अकादमी (Raza Academy) के मौलाना सईद नूरी ने फतवा देते हुए कहा कि पहले वे चेक करेंगे कि वैक्सीन हलाल है या नहीं. रजा अकादमी की मंजूरी के बाद ही मुसलमान इस दवा को लगवाने के लिए आगे आएं.

ये भी पढ़ें:- बिहार में सभी को मुफ्त कोरोना वैक्सीन, 20 लाख रोजगार के चुनावी वादे को बिहार कैबिनेट में मिली मंजूरी

दुनियाभर के मौलाना-मुफ्तियों में इस बात को लेकर असमंजसता है कि क्या यह दवा हलाल (Halal) विधि से बनी है या हराम (Haram) तरीके से. यदि यह दवा सुअर के मांस से बनी है तो क्या कुरान के तहत इसे लगवाना जायज होगा या नहीं? मौलाना सईद नूरी ने कहा,’ये मालूम हुआ है कि चीन ने जो वैक्सीन (Corona Vaccine) बनाया है, उसमें सुअर की चर्बी का इस्तेमाल किया गया है. ऐसे में जो भी वैक्सीन भारत आती है, उसे हमारे मुफ्ती और डॉक्टर अपने हिसाब से चेक करेंगे. उनकी इजाज़त मिलने के बाद ही भारत के मुस्लिम उस वैक्सीन का इस्तेमाल करें वर्ना न करे.’ इस्लामिक स्कॉलर अतीकुर्रहमान रहमान का कहना है कि, ‘अल्ला ताला ने जान बचाने के लिए हराम की चीजों के इस्तेमाल की इजाजत दी है. इनका मानना है, ‘मुस्लिम धर्म गुरूओं का काम समाज को जागृत करना है. इसलिए इस काम में कोई बाधा नहीं आनी चाहिए.’

ये भी पढ़ें:- केंद्र की बड़ी घोषणा, 2 साल में देश होगा ‘टोल नाका मुक्‍त’, जानें कैसे वसूली करेगी सरकार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here