चीन से तनातनी के बीच भारतीय वायुसेना में शामिल हुए राफेल और मिराज ने लद्दाख में भरी उड़ान, वायुसेना की चाक-चौबंद तैयारी

0
209
rafel

चीन से तनातनी के बीच भारतीय वायुसेना ने भी अपनी तैयारियों को चाक-चौबंद कर दिया है. हाल में वायुसेना में शामिल हुए राफेल विमान भी लद्दाख में उड़ान भर रहे हैं. वायुसेना सुखोई एवं मिराज विमानों को वहां पहले से ही तैनात कर चुकी है. मिली जानकारी के अनुसार राफेल विमानों ने लद्दाख के आसपास रविवार को भी उड़ान भरी हैं. सूत्रों ने यह भी बताया कि भारतीय वायुसेना के बेड़े में हाल ही में शामिल किये राफेल लड़ाकू विमान लद्दाख में उड़ान भरेंगे. पिछले तीन हफ्तों में हवाई फायरिंग करने की तीन घटनाओं सहित चीनी सैनिकों के उकसावे वाली कार्रवाइयों के मद्देनजर अपनी तैयारियों को समग्र रूप से बढ़ाने के तहत ऐसा किया जाएगा.

ये भी पढ़ें:- भारत ने चीन को दिया तगड़ा झटका, तनातनी के बीच लद्दाख में LAC पर 6 और चोटियों पर सेना ने किया कब्जा

सरकारी सूत्रों ने भी इस बात की पुष्टि की है. कुछ मिराज विमान भी उड़ान भरते देखे गए हैं. वायुसेना ने विगत 10 सितंबर को अंबाला एयरफोर्स स्टेशन पर आयोजित एक समारोह में राफेल विमानों को वायुसेना में शामिल किया था.
इससे पूर्व जुलाई के आखिर में फ्रांस से पांच राफेल विमान अंबाला पहुंचे थे. सूत्रों ने बताया कि सेना ने पैंगोंग झील के उत्तरी एवं दक्षिणी तटों के आसपास के सामरिक महत्व की 20 से अधिक पर्वत चोटियों तथा चुशुल के विस्तारित सामान्य क्षेत्र में भी पिछले कुछ दिनों में अपना वर्चस्व बढ़ाया है. जबकि इलाके में हाड़ कंपा देने वाली ठंड है. वायुसेना ने सुखोई 30 एमकेआई, जगुआर और मिराज 2000 जैसे अग्रिम पंक्ति के लड़ाकू विमान पूर्वी लद्दाख में अहम सीमांत एयर बेस पर, वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तथा अन्य स्थानों पर तैनात किये जा चुके हैं. राफेल विमान जब वायुसेना में शामिल किए गए थे, तब वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने कहा था कि उन्हें सही वक्त पर वायुसेना में शामिल किया गया है. ये वायुसेना की ताकत में इजाफा करेंगे. उन्होंने यह भी कहा था कि गोल्डन एरोज (राफेल स्वाड्रन) को जहां भी तैनात किया जाएगा, वह हमेशा दुश्मन पर भारी पड़ेंगे.

ये भी पढ़ें:- दुनिया ने भी माना LAC पर भारत ने ‘ड्रैगन’ को दौड़ाया, बैकफुट पर पहुंचा चीन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here