सोनू सूद सरकार से अच्छा काम कर रहे हैं, लगातार लोगो की मदद कर रहे है

0
92
sonu sood

सोनू सूद अभी उन लोगों के लिए सिर्फ एक हीरो नहीं बल्कि मसीहा बन गए हैं, जो कोरोना के माहौल में लॉकडाउन की वजह से अपने-अपने घरों से दूर बाहर फंसे हैं। सोनू सूद इन दिनों मुंबई में फंसे अलग-अलग राज्यों के प्रवासी मजदूरों को अपने-अपने घरों तक पहुंचाने को लेकर खबरों की सुर्खियों में हैं। सोनू सूद ऐसे पहले ऐक्टर हैं, जिन्होंने इस काम में अपना हाथ आगे बढ़ाया है और उन प्रवासी मजदूरों के लिए खाने-पीने की पूरी व्यवस्था के साथ बसों का इंतजाम कर उन्हें अपने-अपने घर की ओर रवाना कर रहे हैं। ये मजदूर लंबे समय से अपने घरों से दूर बेरोजगारी में रह रहे थे और ऐसे में उनके लिए भगवान बनकर सामने आए हैं सोनू। सोशल मीडिया पर इस वक्त सोनू ही सोनू छाए हैं। इसके लिए वह अलग-अलग राज्यों की सरकार से परमिशन लेकर इस काम में जुट गए हैं। आलम ये है कि लोग अब ट्विटर पर मेसेज भेजकर उनसे मदद की गुहार लगा रहे हैं और सोनू ऐसे सभी ट्वीट पर ऐक्शन भी ले रहे हैं। ऐसे सभी ट्वीट का सोनू सूद आश्वासन के साथ जवाब भी दे रहे हैं और उन्हें घर तक पहुंचाने की व्यवस्था भी कर रहे हैं।

ये भी पढ़ें:- भारत में Covid-19 के नये मामले बढ़े लेकिन साथ ही रिकवरी रेट में उछाल देखने के लिए रहें तैयार

अभिनेता सोनू सूद हमारी सरकारों से बढ़िया काम कर रहे हैं। सोनू सूद के पास कोई विशेष अधिकार, कोई संसाधन, कोई अथॉरिटी नहीं है। उनके पास परिवहन, रेलवे, वित्त या गृह विभाग में से कछ नहीं है। इसके वावजूद सोनू लोगो की सहायता करने में जरा भी पीछे नहीं है। वे लगातार अपने दम पर लोगो के लिए घर जाने का इंतजाम कर रहे है।
सवाल नीयत का है। सोनू सूद अपनी क्षमता भर लोगों को घर पहुंचा रहे हैं। सोनू इंडस्‍ट्री के पहले ऐसे ऐक्‍टर हैं जो प्रवासी मजदूरों को घर भेजने के लिए परिवहन की व्यवस्था कर रहे हैं। कुछ दिनों पहले उन्‍होंने कर्नाटक और महाराष्ट्र सरकार से परमिशन लेने के बाद कुछ प्रवासियों की यात्रा और खाने का इंतजाम किया था। इन प्रवासियों के लिए सोनू ने व्यक्तिगत रूप से व्‍यवस्‍था की और उन्हें भोजन किट भी प्रदान की। इससे पहले भी सोनू सूद पंजाब के डॉक्टर्स को 1,500 पीपीई किट्स डोनेट कर चुके हैं। यही नहीं, उन्‍होंने रमजान के मौके पर भिवंडी के हजारों प्रवासी मजदूरों के लिए भोजन का इंतजाम किया। इससे पहले ऐक्‍टर ने मुंबई में स्थित अपना होटेल भी मेडिकल स्टाफ के रहने के लिए दिया था।

ये भी पढ़ें:- नेपाली PM ने भारत के खिलाफ उगला जहर, बोले- भारतीय वायरस चीन और इटली से ज्यादा घातक है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here