ऑस्ट्रेलिया में बस ड्राइवर है श्रीलंका का ये क्रिकेटर, कभी नो-बॉल फेंक सहवाग को शतक से रोका था

0
41
sehwag

श्रीलंका के पूर्व क्रिकेटर सूरज रंदीव का नाम शायद ही कोई इंडियन क्रिकेट फैन भूला हो. श्रीलंका की 2001 वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा रह चुके हैं ऑफ स्पिनर सूरज रणदीव. सूरज रणदीप (Suraj Randiv) क्रिकेट से अलग होने के बाद अब अपना जीवन-यापन करने के लिए ऑस्ट्रेलिया में बस ड्राइवर बन गए हैं. वह मेलबर्न स्थित कंपनी ट्रांसडेव में बतौर बस ड्राइवर काम कर रहे हैं. सूरज रणदीव श्रीलंका के लिए 12 टेस्ट खेल चुके हैं. उनके नाम 43 विकेट हैं. 2010 में श्रीलंका में ट्रायंगुलर सीरीज खेली जा रही थी. इस सीरीज का तीसरा मैच भारत और श्रीलंका के बीच खेला गया था. जिसमें सहवाग 100 गेंद पर 99 रन बनाकर नॉटआउट लौटे थे. सूरज रणदीव की उस गेंद को कौन भूल सकता है, जिस पर उन्होंने भारतीय टीम के पूर्व ओपनर वीरेंद्र सहवाग को शतक बनाने से रोका था. सूरज रणदीव ने 2010 में दाम्‍बुला में 99 रनों पर खेल रहे वीरेंद्र सहवाग को नो बॉल फेंककर शतक से रोक दिया था.

ये भी पढ़ें:- PM Modi के Make in India अभियान से घबराया अमेरिका, Biden को चिंता; प्रभावित हो सकता है द्विपक्षीय व्यापार

नो बॉल के साथ ही भारतीय टीम जीत गई थी और इस गेंद पर लगाया गया सहवाग का छक्‍का काउंट नहीं हुआ. तब श्रीलंका क्रिकेट बोर्ड ने सूरज रणदीव को एक मैच के लिए निलंबित कर दिया था, जबकि तिलकरत्ने दिलशान पर जुर्माना लगाया था. 36 साल के रंदीव ने 2009 में श्रीलंका की ओर से इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था. उन्होंने श्रीलंका की ओर से कुल 12 टेस्ट, 31 वनडे इंटरनेशनल और 7 टी20 इटंरनेशनल मैच खेले हैं. रंदीव के खाते में 43 टेस्ट, 36 वनडे और 7 टी20 इंटरनेशनल विकेट दर्ज हैं। वनडे इंटरनेशनल में रंदीव एक हाफसेंचुरी भी लगा चुके हैं. उन्होंने श्रीलंका के लिए अपना आखिरी वनडे मैच 2016 में इंग्लैंड के खिलाफ खेला था. ऑस्ट्रेलिया में बस ड्राइविंग के अलावा सूरज एक लोकल क्लब के लिए क्रिकेट खेला करते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि जब भारतीय टीम ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर आई थी तो मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने उन्हें नेट बॉलर नियुक्त किया था.

ये भी पढ़ें:- मुंबई में अक्टूबर में हुए Blackout में चीन का हाथ, अमेरिकी सांसद ने Joe Biden से कहा- भारत का साथ दो

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here