बंगाल की खाड़ी में कम दबाव, उत्तर, दक्षिण बंगाल में भारी बारिश का अनुमान

0
81
wheather update

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता समेत पूरे राज्य में रविवार (20 सितंबर, 2020) को भारी बारिश होगी. बंगाल की खाड़ी के ऊपर बन रहे कम दबाव के क्षेत्र के कारण ऐसा होगा. मौसम विभाग ने कहा है कि रविवार से समूचे पश्चिम बंगाल में बारिश की संभावना है. इसी के चलते अलीपुर मौसम विभाग ने अगले चार दिनों तक राज्य में भारी से बहुत भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. हालांकि, दक्षिण की तुलना में उत्तर बंगाल में अधिक वर्षा होगी. इसके कारण नदियों का जलस्तर बढ़ने की आशंका है. मौसम विभाग ने शनिवार को कहा कि कम दबाव के क्षेत्र के उत्तर में गंगीय पश्चिम बंगाल (west Bengal) में बढ़ने की संभावना है जिससे तटीय क्षेत्रों और इससे लगे जिलों पूर्वी मिदनापुर, दक्षिण और उत्तर 24 परगना, हावड़ा, कोलकाता और हुगली में भारी बारिश होगी. मौसम विभाग ने पहले कहा था कि बंगाल की खाड़ी में कम दबाव की स्थिति निर्मित हुई है. रविवार के बुलेटिन के अनुसार, बंगाल की उत्तर-पूर्वी खाड़ी में कम दबाव के कारण रविवार से बुधवार तक राज्य भर में भारी बारिश होने की उम्मीद है. उत्तर बंगाल में, दार्जिलिंग, अलीपुरद्वार और कालिम्पोंग के जिला प्रशासन को अलग-अलग सतर्क रहने के लिए कहा गया है. इन तीनों जिलों में रविवार को 8 से 11 सेमी बारिश होने का अनुमान है.

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार 20 सितंबर को उत्तर पूर्व बंगाल की खाड़ी तथा पास के इलाके में कम दबाव का क्षेत्र बनने की संभावना है और इसके प्रभाव में केरल में 19—21 सितंबर के बीच बारिश एवं कुछ स्थानों पर भारी से बहुत भारी बारिश होने की संभावना है. मौसम विभाग ने केरल के इडुक्की, कन्नूर एवं कसारगोड जिलों में शनिवार एवं रविवार को भारी बारिश का अनुमान व्यक्त किया है. इसके बाद विभाग ने ‘रेड अलर्ट’ जारी किया है और अब अधिकारी एहतियातन लोगों को सुरक्षित इलाके में भेजने की तैयारी कर रहे हैं. सूत्रों ने बताया कि अलर्ट को देखते हुए, नौसेना, भारतीय वायुसेना के हेलीकॉप्टरों, पुलिस, दमकल बलों को किसी भी आपात स्थिति के मद्देनजर तैयार रहने के लिए कहा गया है. रात के दौरान बारिश के तेज होने की संभावना है. केरल राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण ने पहाड़ी क्षेत्रों में शाम सात बजे से सुबह सात बजे तक रात के दौरान आवागमन को प्रतिबंधित कर दिया गया है. मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी दी गयी है, क्योंकि 40 से 45 किलोमीटर प्रतिघंटे की गति से हवा चलने की संभावना है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here