चीन को झटका: WHO ने माना Coronavirus फैलने में Wuhan मार्केट की बड़ी भूमिका

0
136
who

दुनिया भर में कोरोना का कहर फैलाने के बाद चीन को अब झटका लगा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि चीन के वुहान के मार्केट की कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलने में बड़ी भूमिका है। लेकिन अब भी कई रिसर्च करने की जरूरत है। WHO के फूड सेफ्टी जूनॉटिक वायरस एक्सपर्ट डॉ. पीटर बेन ऐंबरेक ने शुक्रवार को जिनेवा में प्रेस ब्रीफिंग के दौरान कहा कि वुहान की वेट मार्केट ने कोरोना फैलाने में भूमिका निभाई है, यह तो साफ है लेकिन क्या भूमिका है इस दिशा में अभी और ज्यादा रिसर्च की जरूरत है। कोरोना वायरस के प्रसार को लेकर चीन और बाकी देशों में चल रही तनातनी के बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने आखिरकार मान लिया है कि कोरोना के फैलने में चीन की बड़ी भूमिका रही। कोरोना वायरस को लेकर सारी दुनिया चीन पर आरोप लगाती रही कि उसने अपने यहां वायरस फैलने से रोकने की कोशिश समय पर नहीं की और बाकी दुनिया को भी अंधेरे में रखा। विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) पर भी चीन का पक्ष लेने आरोप लगता रहा। हालांकि, अब WHO ने कहा है कि चीन के वुहान मार्केट की कोरोना वायरस फैलने में भूमिका रही है। उसने इस दिशा में और ज्यादा रीसर्च की जरूरत बताई है।

ये भी पढ़ें:- PoK पर भारत की कार्रवाई से खौफ में पाकिस्तान, PoK की घर वापसी का भारत ने प्लान किया तैयार

कोरोना वायरस से जुड़े हर रोज कुछ ना कुछ नए खुलासे हो रहे हैं। कोरोना को लेकर चीन और अमेरिका के बीच तकरार जारी है। वुहान कनेक्शन पर अमेरिका अपने रूख को साफ कर चुका है। अब WHO ने भी मान लिया है कि इस जानलेवा वायरस के लिए कहीं न कहीं चीन उत्तरदायी है। WHO के डॉ. पीटर बेन ऐंबरेक ने कहा कि वुहान शहर में वायरस कहीं और से आया या इस वेट मार्केट से वायरस बाहर गया, यही रिसर्च का विषय है। लेकिन यह सवाल जरूर उठता है कि कोरोना वायरस के फैलाव में इस शहर की भूमिका कितनी थी। पीटर ने दुनियाभर के वेट मार्केट्स में नियमों का पालन किए जाने, साफ-सफाई की सुविधाओं को सुधारने और कुछ को बंद करने की भी जरूरत बताई। बता दें जनवरी 2020 में कोरोना संक्रमण के फैलते ही वुहान का वेट मार्केट बंद कर दिया गया था। अमेरिका लगातार जांच कर रहा है, इसी जांच में कई बातें सामने आ रही है। अब जो जानकारी सामने आई है उसके अनुसार चीन के वायरोलॉजी इंस्टिट्यूट को अक्टूबर में बंद कर दिया गया था। अमेरिकी खुफिया एजेंसी इसी बात की जांच में जुटी है कि आखिर इस लैब को क्यों बंद कर दिया गया था। जांच में इस बात का पता चला है कि चीन के वुहान इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के हाई सिक्योरिटी एरिया में करीब 17 दिनों के लिए फोन की कोई एक्टिविटी नहीं देखी गई। बता दें कि अमेरिका समेत दुनिया के कई देशों ने चीन पर सीधे सीधे हमला करते हुए उसे दुनिया में कोरोना वायरस फैलाने का जिम्मेदार माना है ।
अमेरिका ने तो सीधे और कड़े शब्दों में चीन को कहा है कि अगर कोरोना वायरस को फैलाने में चीन की कोई साजिश सामने आई तो उसे इसके गंभीर परिणाम भुगतने होंगे । इसके साथ ही पिछले दिनों अमेरिका ने विश्व स्वास्थ्य संगठन पर भी पक्षपात के आरोप लगाए थे ।

ये भी पढ़ें:- मई तो शुरुआत है, जून-जुलाई में चरम पर पहुंच सकती है कोरोना का संक्रमण’ : एम्स के डायरेक्टर की चेतावनी

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here